Sunday, November 28, 2021 04:59 PM

मकलोडगंज-भागसूनाग और नड्डी में ट्रैफिक जाम

वीकेंड पर स्मार्ट सिटी में जाम में फंसे वाहन; डंगों का हो रहा काम, व्यवस्था धड़ाम, पर्यटकों से जैम पैक हुई पर्यटन नगरी

दिव्य हिमाचल ब्यूरो- धर्मशाला फेस्टिवल सीजन में बंपर टूरिस्ट सीजन का आगाज होते ही पर्यटन नगरी धर्मशाला-मकलोडगंज पूरी तरह से जैम पैक होना शुरू हो गई है। कोरोना महामारी के कारण लंबे समय के बाद लोग अपने घरों से निकलकर एक बार फिर से घूमने-फिरने का आनंद ले रहे हैं। वहीं, मकलोडगंज-भागसूनाग व नड्डी में ट्रैफिक जाम की समस्या से पर्यटकों को काफी परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं। वीकेंड पर ट्रैफिक जाम में वाहन लंबे समय तक फंसे रहे, जिसके कारण पर्यटकों को काफी परेशाना होना पड़ा है। धर्मशाला-मकलोडगंज सड़क मार्ग में डंगों का निर्माण कार्य भी चला हुआ है, कई स्थानों पर डंगें अधर में ही लटके हुए हैं, जिसके कारण परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं। इसके साथ ही बौद्ध नगरी मकलोडगंज व भागसूनाग में व्यवस्था धड़ाम होने से भी परेशानियां हो रही हैं। पर्यटकों की संख्या में इजाफा होने पर कई सड़क मार्गों को वन-वे नहीं किया गया है। इसके साथ ही दुकानदारों ने अपनी अतिक्रमण सड़कों तक पहुंचा दिया है, जबकि बेतरतीब वाहन पार्किंग भी लंबे ट्रैफिक जाम का कारण बन रही है। फेस्टिवल सीजन शुरू होते ही पर्यटन राज्य कहे जाने वाले हिमाचल में रौनकें लौटना शुरू हो गई हैं। वहीं, होटल-रेस्तरां सहित पर्यटन उद्योग से जुड़े हुए कारोबारियों को भी बड़ी राहतें मिलना शुरू हो गई हैं। हालांकि वीकेंड के दौरान पर्यटकों की आवाजाही आम दिनों के मुकाबले ओर अधिक बढ़ रही है। ऐसे में नड्डी डल झील, मकलोडगंज व भागसूनाग आने-जाने वाले पर्यटकों को लंबे ट्रैफिक जाम की समस्या से रविवार को भी परेशान होना पड़ा है।

हालांकि धर्मशाला के ही अन्य प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में कुनाल पत्थरी मंदिर, प्राचीन इदं्रुनाग मंदिर खनियारा, ऐतिहासिक अघंजर महादेव मंदिर खनियारा, टूरिस्ट प्लेज खड़ौता, स्लोटी माता मंदिर, थातरी सहित लूंटा व अन्य स्थानों पर भी पर्यटकों की आमद देखने को मिल रही है। हालांकि उक्त क्षेत्रों में अधिक अतिक्रमण व निर्माण कार्य न होने के कारण ट्रैफिक जाम की समस्या से पर्यटकों को नहीं जूझना पड़ा है। स्थानीय लोगों व कारोबारियों का कहना है कि प्रशासन व ट्रैफिक पुलिस को पर्यटक स्थलों में उचित आवाजाही की व्यवस्था करनी चाहिए। वैक्लिपक मार्गों को वन-वे के तहत जोड़कर पर्यटकों का अधिक ट्रैफिक ज़ाम की समस्या नहीं होनी चाहिए, वहीं लोगों का कहना है कि मकलोडगंज-भागसूनाग से जल्द से जल्द इंद्रुनाग-चोहला, वनगोटू सड़क मार्ग को जोडऩा चाहिए, जिससे मकलोडग़ंज-भागसूनाग में ट्रैफिक का बोझ कम होकर दूसरे रास्ते से डायवर्ट होकर अन्य पर्यटक स्थलों खनियारा अघंजर महादेव व श्रीचांमुडा व अन्य स्थलों में आसानी से पहुंच सकें।