Tuesday, December 07, 2021 05:23 AM

सफर डेढ़ किलोमीटर, किराया 20 रुपए

हरदासपुरा मोहल्ले में लोगों की मुश्किलें बढ़ीं, बसें न लगने से ओल्ड बस अड्डा व मेडिकल कालेज पहुंचना हुआ कठिन

दिव्य हिमाचल ब्यूरो, चंबा शहर के हरदासपुरा मोहल्ले के लोगों को मुख्यालय पहुंचने के लिए एक से डेढ किलोमीटर के सफर हेतु पंद्रह से बीस रुपए का किराया खर्च करना पड़ रहा है। इस मोहल्ले के लोगों के लिए शहर पहुंचने के लिए आवाजाही की सीमित सुविधा के चलते सफर मंहगा होकर रह गया है। यह खुलासा चंबा वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान अश्वनी भारद्वाज, उपप्रधान शाह चंद ठाकुर, महासचिव सुरेश कश्मीरी और सदस्य पीएल ठाकुर, विश्वानाथ महाजन, धर्मपाल ठाकुर व वजीरू राम ठाकुर ने किया है। उन्होंने कहा कि कसाकडा मोहल्ले में बस अड्डे के स्थानांतरित होने के बाद से हरदासपुरा मोहल्ले के लोगों के लिए ओल्ड बस अड्डे या मेडिकल कालेज पहुंचने के लिए कोई विशेष प्रबंध नहीं किए गए हैं। इस मोहल्ले के लिए दो- तीन इलेक्ट्रिक्ल वैन हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम द्वारा चलाई जा रही हैं। इन वैन में सवारियों की क्षमता से 6 से 7 के बीच है। ऐसे में लोगों को मजबूरन लंबी दूरी की बसों के जरिए भरमौर चौक पहुंचना पड़ता है।

जहां से आगामी सफर के लिए टेंपो या टैक्सी वाहन पर सफर करना पड़ता है। ऐसे में इन लोगों को डेढ़ से दो किलोमीटर के लिए पंद्रह से बीस रुपए अदा करने पड़ रहे हैं। उन्होंने लोगों की सुविधा हेतु जिला प्रशासन व परिवहन निगम प्रबंधन से करियां, मुगला व मैहला की ओर से आने वाली बसों को ओल्ड बस अड्डे तक चलाया जाए। इसके साथ ही चंबा वेलफेयर एसोसिएशन ने शहर में लावारिस कुत्तों व पशुओं के अलावा बंदरों के बढ़ते आंतक से निजात दिलाने के लिए भी प्रशासन से कड़े कदम उठाने को कहा है। एसोसिएशन का कहना है कि सांझ ढलते ही शहर की सडकों पर लावारिस कुत्तों के झुंड घूमते देखे जा सकते हैं। यह लावारिस कुत्ते अब लोगों पर भी हमला बोलने लगे हैं। ऐसे में लोगों को जल्द निजात दिलाई जाए। लोग अरसे से बराबर मांग उठा रहे हैं।

लंबी दूरी की बसों में सफर की मजबूरी चंबा वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान अश्वनी भारद्वाज ने कहा कि हरदासपुरा मोहल्ले के लिए दो- तीन इलेक्ट्रिक्ल वैन निगम द्वारा चलाई जा रही हैं। इन वैन में सवारियों की क्षमता से 6 से 7 के बीच है। ऐसे में लोगों को मजबूरन लंबी दूरी की बसों के जरिए भरमौर चौक पहुंचना पड़ता है। जहां से आगामी सफर के लिए टेंपो या टैक्सी वाहन पर सफर करना पड़ता है। ऐसे में इन लोगों को डेढ़ से दो किलोमीटर के लिए पंद्रह से बीस रुपए अदा करने पड़ रहे हैं। निगम प्रबंधन करियां, मुगला व मैहला की ओर से आने वाली बसों को ओल्ड बस अड्डे तक चलाए।