Sunday, November 28, 2021 04:40 PM

शहरों संग गांवों में बदल गया दुकानों का ट्रेंड

जिला के गांवों में मॉल की तर्ज पर मोडिफाई हुईं दुकानें; बड़े मॉल को टक्कर दे रहे छोटे बाजार, हर सामान तक पहुंच रहा ग्राहक

नरेन कुमार—धर्मशाला आधुनिकिकरण की तरफ भाग रहे पहाड़ी राज्य हिमाचल प्रदेश में एकदम से देश के बड़े शहरों की तर्ज पर मुख्य शहरों में शॉपिंग मॉल व बड़े मॉल का चलन शुरू हुआ है। वहीं कोरोना महामारी का भी भंयकर दौर रहा है, और लोग लंबी लाइनों की बजाय खुद खुले स्पेस में सामान उठाकर खरीददारी करना पसंद कर रहे हैं। इसके चलते ही प्रदेश भर सहित सबसे बड़े जिला कांगड़ा के शहरों संग गांवों में भी बाजारों व दुकानों का ट्रेंड पूरी तरह से बदल गया है। जिला के मुख्य शहरों में बड़े-बड़े शॉपिंग मॉल खुल गए हैं। तो वहीं छोटे बाजारों व गांवों में मॉल की तर्ज पर दुकानें पूरी तरह से मोडिफाई हो गई है। जिसमें दुकानों ने अब छोटे मॉल का रूप धारण कर लिया है, और ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं। वहीं स्मार्ट सिटी व पर्यटन नगरी धर्मशाला की अगर बात करें, तो यहां पर हर तीसरी दुकान का नक्शा बदल गया है। दुकानें अब छोटे मॉल बन गए हैं, जंहा पर ग्राहकों को खरीददारी करना भी आसान हो रहा है। वहीं अब बड़े मॉल को छोटे बाजार पूरी तरह से टक्कर दे रहे हैं, साथ ही हर सामान तक ग्राहक की पहुंच बनने से खरीददारी भी अधिक हो रही है। डिजिटल इंडिया व आधुनिक भारत के युग में ऑनलाईन शॉपिगं व शॉपिंग मॉल से खरीददारी करने का ट्रेंड शुरू हुआ है। इसके चलते छोटे बाजारों व कारोबारियों की खरीददारी पर भी असर पडऩा शुरू हो गया था। लेकिन अब कोरोना महमारी के बाद सूचारू रूप से बाजारों को खुलने पर पाया जा रहा है, कि बाजार में दुकानें पूरी तरह से चेंज हो गई है। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए दुकानों में स्पेश की मैनजमेंट कर छोटे मॉल का रूप दिया जा रहा है। इतना ही नहीं शहरों, बाजारों के साथ-साथ ग्रामीण परिवेश के बाजारों में भी यह चलन शुरू हो गया है। जिससे लोगों में जो होड शॉपिंग मॉल के पीछे दौडऩे और खुद सामान उठाकर खरीददारी करने का शोक लगा है, उसे छोटे बाजार व उनके कारोबारी भी लाभ उठा सकें।

इसके चलते ही छोटे बाजारों व गांवों के कुछेक बाजारों में पूरी तरह से ट्रांसफोर्मेशन हो गया है। इससे दुकानदारों व कारोबारियों को भी बड़ा लाभ यह देखने को मिल रहा है कि ग्राहक की खुद सामान तक पहुंच होने से वह एक-दो वस्तुओं की बजाय पांच से 10 वस्तुओं की खरीददारी एक साथ कर ले रहा है। जिसके चलते ही जिला कांगड़ा के धर्मशाला, मकलोडगंज, दाड़ी, सिद्धबाड़ी, शिल्ला चौक, फतेहपुर, योल, चांमुडा, पालमपुर, बैजनाथ, नगरोटा बगवां, कांगड़ा, गगल, बगली, रानीताल, शाहपुर, ज्वाली, नगरोटा सूरियां, फतेहपुर, जयसिंहपुर, पंचरुखी सहित अन्य दर्जन भर बड़े बाजारों के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में भी छोटे शॉपिंग मॉल खुलने का चलन शुरू हो गया है। धर्मशाला के कारोबारियों में से घनश्याम शर्मा, प्रवीण कुमार, सोनू डोगरा, पुनीत मल्ली, शेखर व अन्य का कहना है कि बाजारों को टें में अब बदलाब आया है। समय के साथ दुकानों को ग्राहकों की सुविधानुसार बदला जा रहा है। (एचडीएम)