Tuesday, April 13, 2021 10:12 AM

ऊना में मरीजों की वैक्सीनेशन शुरू

चिंतपूर्णी मंदिर में निरीक्षण को पहुंचे एसडीएम को आम आदमी समझ सामने आए दलाल

निजी संवाददाता - चिंतपूर्णी शक्तिपीठ चिंतपूर्णी मंदिर में रविवार को एसडीएम अंब मनीष यादव ने दोपहर अढ़ाई बजे के करीब औचक निरीक्षण किया। एसडीएम अंब जब मंदिर की लिफ्ट पर पहुंचे तो लिफ्ट के आसपास बनी कुछ दुकानों के अंदर बने चोर रास्तों का निरीक्षण किया, जो कि मंदिर के साथ मेन बाजार से मिलते हैं। यही नहीं, यहां एक दुकानदार के नौकर ने शार्टकट तरीके से दर्शन करवाने के एसडीएम अंब से 1100 रुपए की मांग कर डाली, लेकिन जब एसडीएम दुकान के अंदर बने रास्ते से मेन बाजार पहुंचे, जहां श्रदालुओं की लाइन लगी हुई थी तो यहां ड्यूटी दे रहे एक होमगार्ड के जवान ने एसडीएम अंब से लाइन में घुसने के 500 रुपए मांगे। मंदिर में चल रही इस तरह की अव्यवस्था को देखकर एसडीएम अंब मनीष यादव भड़क गए और मंदिर अधिकारी अभिषेक भास्कर के साथ लिफ्ट वाली साइड पहुंचे। जंहा उन्होंने मौके पर थाना प्रभारी कुलदीप कुमार को भी बुलाया और मंदिर के साथ लगती तीन दुकानों को सील करने के आदेश दे दिए। जिसके बाद आसपास दुकानदारों में अफरा-तफरी मच गई।

एसडीएम के आदेशों के बाद जब चिंतपूर्णी पुलिस ने दुकानों को सील करने के आदेश दिए और पुलिस ने जब दुकानों को सील करने की कारवाई शुरू की तो स्थानीय दुकानदारों ने एसडीएम अंब से दोबारा ऐसा न करने की अपील की। जिस पर इन दुकानदारों को चेतावनी देकर दुकानों को दोबारा खोला गया। बताते चले कि पिछले काफी समय से छुट्टी वाले दिन व रविवार को श्रदालुओं की भीड़ के चलते चिंतपूर्णी मंदिर में चोर दरवाजों से श्रदालुओं को दर्शन करवाने की शिकायतें मिल रही थी। जिस कारण माता रानी के दर्शनों में लाइन में लगे श्रदालुओं को घंटों दर्शनों के लिए इंतजार करना पड़ता था ओर लाइनों में लगे भक्त लाइन न चलने से ल परेशान होते है। इसी कारण एसडीएम अंब ने रविवार को एक श्रदालु बनकर सारी व्यवस्थाओ का निरीक्षण किया। वंही एसडीएम अंब मनीष यादव ने कहा कि मंदिर में चोर दरवाजों से शार्टकट तरीके से दर्शन करवाने की शिकायतें मिल रही थी जिस कारण लाइन में लगे श्रदालुओं को लाइन न चलने के कारण काफी परेशानी होती है। इसी को लेकर रविवार को औचक निरीक्षण किया गया तो काफी ज्यादा अव्यवस्था यंहा पर पाई गई। अव्यवस्था फैलाने वाले दुकानदारों को चेतावनी दी गई। साथ ही उन्होंने कहा की लिफ्ट पर भी सख्ती की जाएगी वहां से सिर्फ अपंग व बुजर्ग श्रदालुओं को ही लिफ्ट के इस्तेमाल करने की अनुमति अबसे दी जाएगी।

गगरेट में तेज रफ्तार से सड़कों पर दनदना रहे ओवरलोडेड टिप्परों से आए दिन हो रहे खतरनाक हादसे

स्टाफ रिपोर्टर-गगरेट हिमाचल से पंजाब को रेत-बजरी लेकर जा रहे बेलगाम टिप्पर मानव जीवन के लिए खतरा बनने लगे हैं। बिना किसी जांच के तेज रफ्तार से दौड़ रहे ओवरलोडिड टिप्पर सड़क पर ऐसे दनदना रहे हैं। जैसे ये सड़क सिर्फ और सिर्फ इन टिप्परों के लिए ही बनी है। आए दिन कोई न कोई वाहन चालक इन टिप्परों का शिकार हो रहा है, तो गगरेट कस्बे में यह टिप्पर यातायात जाम का मुख्य कारण बन रहे हैं। रविवार को भी एक तेज रफ्तार टिप्पर एक बेशकीमती जिंदगी लील गया और टिप्पर लॉबी के बुलंद हौसले की बानगी देखिए। मानवीय मूल्यों को तिलांजलि देकर टिप्पर चालक ने टिप्पर खड़ा कर घायलों को अस्पताल तक पहुंचाने की जहमत नहीं उठाई।

हालांकि कुछ अरसा पहले पुलिस ने पंजाब को प्रदेश की संपदा लेकर जा रहे इन टिप्परों पर सख्ती दिखाई थी और ओवरलोडिड टिप्परों के चालान करने के साथ इन्हें जब्त भी किया था, लेकिन धीरे-धीरे पुलिस की यह मुहिम ठंडी पड़ गई, जिसका सबब यह है कि अब फिर से टिप्पर लॉबी ने सिर उठा लिया है। ये टिप्पर लॉबी क्षमता से अधिक रेत-बजरी लेकर जा रही है, लेकिन एम-फार्म में इसकी मात्रा कम दर्शा कर सरकारी खजाने को भी लूटा जा रहा है।

बात महज सरकारी खजाने को चपत लगाने तक सीमित नहीं रही, बल्कि बेलगाम टिप्पर लाबी अब मानव जीवन की दुश्मन बन बैठी है। अकसर गगरेट-होशियारपुर सड़क मार्ग पर हिमाचल की सीमा के भीतर ही किसी न किसी मोड़ पर कोई न कोई टिप्पर किसी पर्यटक वाहन को अपना शिकार बना रहा है। कई पर्यटक को कानूनी पेचीदगी से बचने के लिए मामला पुलिस तक ले जाने में परहेज कर रहे हैं। यही नहीं, बल्कि अपनी गलती होने के बावजूद ये टिप्पर चालक पर्यटकों को आंखें दिखाने से बाज नहीं आते और इस सड़क मार्ग पर वाहन चलाना खुद का एकाधिकार समझते हैं। अगर समय रहते इनसे न निपटा गया तो कई बेशकीमती जिंदगियां यूं ही काल की गाल में समाती रहेंगी। उधर एसएचओ दर्शन सिंह का कहना है कि पुलिस समय-समय पर ऐसे वाहनों के चालान करती है और ओवर स्पीड के रोजाना पंद्रह-बीस चालान किए जाते हैं। फिर भी ओवरलोडिड व तेज गति से चलने वाले टिप्परों के साथ पुलिस सख्ती से निपटेगी।

मां चिंतपूर्णी के दर्शनों को जा रहे दंपति के साथ दर्दनाक हादसा, पत्नी घायल, पति ने तोड़ा दम

स्टाफ रिपोर्टर-गगरेट मां चिंतपूर्णी के दर्शनों को बाइक पर सवार होकर जा रहे पंजाब के एक दंपति को हिमाचल-पंजाब की सीमा आशा देवी से कुछ दूरी पर एक तेज रफ्तार टिप्पर ने रौंद डाला। इस दुर्घटना में महिला तो बाल-बाल बच गई, लेकिन टिप्पर का टायर व्यक्ति के सिर ऊपर से गुजर जाने से व्यक्ति की दर्दनाक मौत हो गई। इस घटना के बाद टिप्पर चालक टिप्पर सहित घटनास्थल से फरार हो गया। हालांकि पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से टिप्पर की पहचान कर ली है।

गगरेट पुलिस ने टिप्पर चालक के विरुद्ध मामला दर्ज कर मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। रविवार सुबह पंजाब के होशियारपुर शहर के रूपनगर मोहल्ले के गली नंबर सत्रह के गुरदेव सिंह (55 वर्ष) पुत्र लश्कर सिंह अपनी पत्नी संयोगिता देवी के साथ बुलेट बाइक पर सवार होकर मां चिंतपूर्णी के दर्शनों को जा रहे थे। बाइक अभी हिमाचल-पंजाब की सीमा पार कर कुछ ही दूरी पर पहुंची थी कि होशियारपुर की ओर से तेज रफ्तार से आ रहे एक टिप्पर ने बाइक को रौंद डाला। हालांकि गुरदेव सिंह ने हेल्मेट भी पहना हुआ था लेकिन टिप्पर का टायर उसके सिर के ऊपर से गुजर गया और उसकी मौका पर ही मौत गई। उसकी पत्नी संयोगिता देवी को भी इस हादसे में चोटें आई हैं लेकिन वह बाल-बाल बच गई। इस घटना के बाद टिप्पर चालक टिप्पर सहित घटनास्थल से फरार हो गया। घटना की जानकारी मिलते ही गगरेट पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव का पंचनामा करने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए क्षेत्रीय अस्पताल ऊना भेजा गया जबकि मृतक की पत्नी संयोगिता को सिविल अस्पताल गगरेट में प्राथमिक उपचार उपलब्ध करवाया गया। गगरेट पुलिस ने टिप्पर चालक को पकडऩे के लिए सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले हैं और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस के हाथ टिप्पर का सुराग लगा है, लेकिन अभी तक टिप्पर चालक पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है। डीएसपी सृष्टि पांडे ने बताया कि पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

सीसीटीवी की मदद से की टिप्पर पहचान पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से टिप्पर की पहचान कर ली है। गगरेट पुलिस ने टिप्पर चालक के विरुद्ध मामला दर्ज कर मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। रविवार सुबह पंजाब के होशियारपुर शहर के रूपनगर मोहल्ले के गली नंबर सत्रह के गुरदेव सिंह (55 वर्ष) पुत्र लश्कर सिंह अपनी पत्नी संयोगिता देवी के साथ बुलेट बाइक पर सवार होकर मां चिंतपूर्णी के दर्शनों को जा रहे थे।

स्टाफ रिपोर्टर-गगरेट कोरोना वायरस को हलके में लेने वाले सावधान हो जाएं। मार्च माह आते-आते कोरोना वायरस ने फिर से पांव फैलाना शुरू कर दिया है। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय अंबोटा के ही चार विद्यार्थी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिला ऊना से डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज टांडा भेजे गए कुल 175 सैंपल में से पांच लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ये पांच लोग स्वास्थ्य खंड गगरेट के ही हैं। इनमें गगरेट कस्बे के एक प्रतिष्ठित व्यापारी भी शामिल हैं। कुछ दिन पहले तक जिला ऊना से भेजे जा रहे कोरोना सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर ऐसा लग रहा था कि जैसे जिला ऊना में कोरोना वायरस का प्रकोप अब थम गया है।

पिछले साल मार्च माह में ही कोरोना वायरस ने अपना असर दिखाना शुरू किया था और मार्च माह आते-आते कोरोना वायरस ने फिर से फन फैला दिया है। स्कूली बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो इसके लिए प्रदेश सरकार ने स्कूल भी खोल दिए थे, लेकिन अब जैसे-जैसे कोरोना वायरस का प्रकोप बढऩे लगा है इसने स्कूली विद्यार्थियों पर भी धावा बोला है। प्रदेश सरकार की गाइडलाइन के अनुसार स्कूली विद्यार्थियों के भी कोरोना जांच के लिए रेंडम सैंपल लिए जा रहे हैं। शनिवार को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय अंबोटा के कुछ विद्यार्थियों के सैंपल लेकर जांच के लिए डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज टांडा भेजे गए थे और रविवार को जब इनकी रिपोर्ट आई तो राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय अंबोटा के ही चार विद्यार्थी कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इन विद्यार्थियों के कोरोना पॉजिटिव आने से स्कूल स्टाफ सहित अभिभावकों में हड़कंप मच गया है। खास बात यह है कि इन विद्यार्थियों के रेंडम सैंपल लिए जा रहे हैं। कहीं अगर सभी विद्यार्थियों के सैंपल जांच के लिए भेजे जाएं, तो कई ऐसे मामले सामने आ सकते हैैं। विद्यार्थियों की वार्षिक परीक्षाएं भी सिर पर हैं और ऐसे में स्कूल के चार विद्यार्थियों के कोरोना पॉजिटिव आने से मुसीबतें और बढ़ गई हैं। उधर गगरेट कस्बे के एक प्रतिष्ठित व्यापारी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। खंड स्वास्थ्य अधिकारी डा. एसके वर्मा ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि गगरेट क्षेत्र के चार विद्यार्थियों सहित पांच लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

भाजपा के प्रशिक्षण शिविर के समापन पर प्रेम कुमार धूमल ने दिए टिप्स कार्यालय संवाददाता-मैहतपुर बसदेहड़ा हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने कार्यकर्ताओं को इतिहास का पाठ पढ़ाते हुए कहा कि जो संगठन इतिहास को भूल जाते हैं, वे कभी भी आगे नहीं बढ़ सकते। नगर परिषद मैहतपुर बसदेहड़ा के एक निजी रिसोर्ट में दो दिवसीय भाजपा के प्रशिक्षण शिविर के समापन अवसर पर प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि संघ की स्थापना 1925 हुई थी, लेकिन उस समय किसी को यह अनुमान नहीं था, कि संघ के लोग ही आगे चलकर देश की एक बहुत बड़ी राजनीतिक पार्टी के रूप में भी उभरकर सामने आएंगे। 1948 में महात्मा गांधी की हत्या के बाद संघ के अनेक कार्यकर्ता को हिरासत में ले लिया गया।

बिना कसूर के संघ पर पाबंदी लगा दी गई। संघ को तब यह महसूस हुआ कि संघ का अपना एक राजनितिक दल होना चाहिए। तब कांग्रेस से इस्तीफा देकर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने संघ की नींव रखी। प्रो. धूमल कहा कि संघ के पास उस वक्त कार्यकर्ता नहीं थे। ऐसे में कार्यकर्ताओं को इक_ा करके एक संगठन तैयार किया गया। अक्टूबर 1951 में भारतीय जनसंघ का गठन हुआ और 1952 में श्यामा प्रसाद मुखर्जी पहले विपक्ष के नेता बने। इस मौके पर वित्तीय आयोग के अध्यक्ष सतपाल सत्ती, जिला अध्यक्ष मनोहर लाल, मंडलाध्यक्ष हरपाल सिंह, रमेश भडोंलियां व वरिष्ठ नेता डाक्टर रामपाल सैणी समेत के अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।

प्रदेश वित्तायोग के अध्यक्ष बोले, 50192 करोड़ का बजट प्रदेश के लिए कल्याण के समर्पित

सिटी रिपोर्टर-ऊना मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा पेश चौथा वित्तीय बजट गांव, किसान-बागवान और कर्मचारियों के लिए आर्थिक सशक्तिकरण की मूल सरंचना का आधार होगा। जयराम सरकार का बजट समाज के सभी वर्गों के लिए राहत व आर्थिक सशक्तिकरण लाएगा। यह बात यहां जारी बयान में प्रदेश वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने कही। उन्होंने बताया कि जयराम सरकार का 50,192 करोड़ का पेश बजट प्रदेश के सर्वसमाज के कल्याण को समर्पित है और विशेष रूप से महिलाओं के सशक्तिकरण, सामाजिक उत्थान और वैशिक महामारी के दौरान व पश्चात कल्याणकारी योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने में जिस प्रकार जयराम ने सफलता पूर्वक कार्य किया वो प्रशंसनीय है। सतपाल सत्ती ने बताया कि एसएमसीए आईटी शिक्षकों, मिड-डे मील कर्मियों का मानदेय बढ़ाने से इन कर्मचारियों को आर्थिक राहत देने का कार्य भी इस बजट में किया गया है।

उन्होंने बताया कि 543 करोड़ की नई स्वर्ण जयंती समृद्ध बागबान योजना से बागवानों को आर्थिक सबलता देने का प्रावधान इस बजट में किया गया है। साथ ही बागबानों के लिए पांच लाख पौधों का आयात किया जाएगा। बागबानों को उपदान देने के लिए नई स्वर्ण जयंती समृद्ध बागवान योजना वर्ष 2021-22 में शुरू की जाएगी। बागवानों को उपदान देकर ओलावृष्टि से बचाने में सरकार अपना 60 करोड़ का व्यय कर रही है। इस बार से विधायक प्राथमिकता राशि को 120 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 135 करोड़ रुपए किया गया है। जिससे चुने हुए जनप्रतिनिधियों को विकास कार्य को आसानी से करने में लाभ होगा।

नगर संवाददाता-ऊना सरकार ने बजट में 2555 एसएमसी अध्यापकों के साथ ५०० रुपए मानदेय में वृद्धि करके भद्दा मजाक किया हैं, जोकि बहुत ही निराशाजनक हैं। यह बात एसएमसी अध्यापक स्टेट यूनियन के मीडिया प्रभारी और ऊना यूनियन के प्रधान अनवर खान, उपप्रधान नवदीप कुमार, महासचिव चंद्रमोहन, सचिव पंकज, को-ऑर्डिनेटर एडवाइजर सतीश, मीडिया प्रभारी दिनेश, सह-सचिव मुकेश, कैशियर प्रवेश कुमारी, एडवाइजर पूनम, अंजना, मोनिका द्विवेदी ने कही।

उन्होंने कहा कि एसएमसी अध्यापकों को सरकार से उम्मीद थी कि सरकार बजट में 2555 एसएमसी अध्यापकों के लिए पीटीए, पैट, पैरा और पंजाबी व उर्दू अध्यापकों की तर्ज पर स्थाई नीति बनाएगी। लेकिन सरकार ने 500 रुपये बढ़ा कर एसएमसी अध्यापकों के साथ मजाक किया हैं। अब इसको लेकर एसएमसी अध्यापक जल्दी राज्यस्तरीय बैठक करेंगें। तथा सड़कों पर उतरने से भी परहेज नही करेंगें। एसएमसी अध्यापक पिछले 09 बर्षों से हिमाचल प्रदेश के विभिन्न स्कूलों में कम वेतन और बिना किसी अवकाश के लगातार अपनी सेवाएं दे रहें हैं।

निजी संवाददाता-बरमाणा जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रकाश दरोच ने जानकारी देते हुए बताया कि लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं देने के उदे्श्य से आयुष्मान भारत के तहत 89 हैल्थ एंड वैलनेस सेंटर जिला बिलासपुर में कार्य कर रहे हैं, जिनमें 38 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों व 51 उप स्वास्थ्य केंद्रों को हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर बनाया गया है। हैल्थ एंड वैलनेस सेंटर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में डाक्टरों व स्वास्थ्य उप केंद्रों में कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर की तैनाती की गई है। इन सभी हैल्थ एंड वैलनेस सेंटरों में टेली-कंसलटेशन के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान की जा रही है।

कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर टेली-कलसलटेशन के माध्यम से स्वास्थ्य उप केंद्रों से नजदीकी हेल्थ एंड वैलनेस केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के डाक्टर या फिर श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कालेज नेरचैक जिला मंडी में जिस रोग से मरीज ग्रसित है उसके स्पेशलिस्ट डाक्टर को टेली-कलसलटेशन के माध्यम से उस मरीज को बैठे-बैठे ही उपचार उपलब्ध करवाया जाता है। हैल्थ एंड वैलनेस सेंटर, प्राथामिक स्वास्थ्य केंद्रों में मातृत्व स्वास्थ्य, शिशु स्वास्थ्य, टीकाकरण, परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों आदि की सुविधाएं उपलब्ध हैं।

नगर संवाददाता- ऊना जिला ऊना में वरिष्ठ नागरिकों के लिए तथा किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित 45-59 आयु वर्ग के व्यक्तियों के लिए कोविड-19 टीकाकरण शुरू हो गया है। इस बारे जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. रमण कुमार शर्मा ने बताया कि यह टीकाकरण अभियान 30 अप्रैल तक चलेगा। सीएमओ डा. रमण कुमार शर्मा ने बताया कि टीकाकरण के लिए सभी लाभार्थी मोबाइल पर आरोग्य सेतु ऐप, कोविन ऐप पर पंजीकरण करना सुनिश्चित करें। टीकाकरण के लिए 60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति अपना आधार कार्ड व वोटर कार्ड साथ लेकर आएं तथा गंभीर बीमारियों से ग्रसित 45-59 वर्ष के व्यक्तियों के लिए आधार कार्ड, वोटर कार्ड के साथ-साथ चिकित्सा प्रमाण पत्र भी लाना अनिवार्य है। उन्होंने बताया कि 45-59 वर्ष के मधुमेह तथा उच्च रक्तचाप से ग्रसित व्यक्ति का 10 वर्ष या इससे अधिक समय से पीडि़त होने का प्रमाण पत्र मान्य होगा जो एमबीबीएस या बीएएमएस चिकित्सक द्वारा जारी किया गया हो।

उन्होंने बताया कि यह टीकाकरण क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में प्रत्येक मंगलवार, गुरुवार, शुक्रवार तथा पहले और तीसरे रविवार को किया जाएगा तथा जिला के सभी सिविल अस्पताल अंब, हरोली, बंगाणा, चिंतपूर्णी व गगरेट में प्रत्येक मंगलवार, शुक्रवार तथा पहले व तीसरे रविवार को किया जाएगा। जिला के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों धुसाड़ा, बसदेहड़ा, संतोषगड़, दौलतपुर चैक, दुलैहड़, कुंगड़त, भदसाली, बीटन तथा थानाकलां में प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार को टीकाकरण किया जाएगा। जिला के सभी 24 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों तथा सभी 138 स्वास्थ्य उपकेंद्रों में 15 मार्च से 15 अप्रैल तक टीकाकरण किया जायेगा। उन्होंने बताया कि 24 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों जिनमें चुरुडू, अकरोट, धर्मशाला महंता, चक सराए, लोहरा, शिवपुर, देहलां, बसोली, चलोला, बसाल, बढेडा राजपूता, मरवाड़ी, अमलेहड़, बाथड़ी, पालकवाह, कुठार बीत, बढेडा, पंजावर, खड्ड, सलोह, सोहारी टकोली, लठियाणी, रायपुर मैदान तथा चमियाडी में प्रत्येक मंगलवार को टीकाकरण किया जाएगा साथ में सभी 138 स्वास्थ्य उपकेंद्रों में प्रत्येक गुरुवार को टीकाकरण किया जाएगा।