Sunday, March 07, 2021 11:26 PM

वैक्सीन...कोरोना वारियर्स सबसे पहले

नगर संवाददाता-ऊना

गद्दी समुदाय की बकरी चोरी मामलों को पुलिस प्राथमिकता के आधार पर छानबीन करें, क्योंकि उनकी आजीविका भेड़ व बकरी पालन से ही चलती है। यह बात उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने शनिवार को एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। बैठक में पुलिस अधीक्षक अर्जित सेन ठाकुर, डीएफओ मृत्युंजय माधव, उप-निदेशक पशु पालन विभाग डा. जय सिंह सेन, सहायक निदेशक डा. सुरेश धीमान उपस्थित रहे।

उपायुक्त ने वन विभाग को गद्दी समुदाय के साथ बैठकें कर उन्हें जागरूक करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि रेंज अधिकारी जब भी गद्दी समुदाय को परमिट जारी करें, तो उसके पिछले पृष्ठ पर हेल्पलाइन नंबर प्रकाशित करें। हेल्पलाइन नंबर में नजदीकी पुलिस थानों तथा वन विभाग के कार्यालयों के नंबर प्रकाशित किए जाएंगे।

साथ ही परमिट की कॉपी पुलिस विभाग के साथ भी साझा की जाए। राघव शर्मा ने पशु पालन विभाग को भी पर्ची के पीछे इसी प्रकार से हेल्पलाइन नंबर प्रकाशित करने के निर्देश दिए। राघव शर्मा ने कहा कि एससी-एसटी एक्ट में सुरक्षा के लिए हथियार दिए जाने का भी प्रावधान हैं। ऐसे में सरकार से अनुरोध किया जाएगा कि गद्दी समुदाय को हथियार रखने के लाइसेंस मिले, ताकि वह अपने पशु धन की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकें। इसके अलावा वूल फेडरेशन के माध्यम से गद्दी समुदाय की भेड़ों व बकरियों का बीमा कराने पर भी विचार किया जाए, ताकि उनके नुकसान की भरपाई की जा सके।

स्टाफ रिपोर्टर- गगरेट

विश्व भर में कोहराम मचाने वाली वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को मात देने के लिए देश में कोविड-19 वैक्सीन के लांच होने के साथ ही सिविल अस्पताल गगरेट में भी इस टीकाकरण अभियान का विधिवत शुभारंभ हो गया। सिविल अस्पताल गगरेट में तैनात हैल्थ सुपरवाइजर जगतजीत सिंह इस वैक्सीन की डोज लेने वाले गगरेट क्षेत्र के पहले व्यक्ति बने। प्रारंभिक चरण में हैल्थ वर्कर्स को यह वैक्सीन लगेगी। जो लोग इस वैक्सीन की डोज लेंगे उन्हें 28 दिन बाद फिर से वैक्सीन की डोज दी जाएगी। सिविल अस्पताल गगरेट में पूरी तैयारी के साथ शनिवार को पचास लोगों को ये वैक्सीन लगाई गई।

शनिवार को देश में कोविड-19 की वैक्सीन लांच होते ही यह वैक्सीन सिविल अस्पताल गगरेट में भी लगनी शुरू हो गई। जिला ऊना में क्षेत्रीय अस्पताल ऊना व सिविल अस्पताल गगरेट में एक साथ इस टीकाकरण अभियान का शुभारंभ किया गया। टीकाकरण अभियान को शुरू करने से पहले बड़ी स्क्रीन पर वैक्सीन की डोज लेने आए लोगों ने प्रधानमंत्री का अभिभाषण सुना और उसके बाद खंड चिकित्सा अधिकारी डा. एसके वर्मा ने विधिवत तौर पर इस टीकाकरण अभियान के शुभारंभ की घोषणा की। गगरेट क्षेत्र के करीब सत्तर लोग प्रारंभिक चरण में ये वैक्सीन हासिल करेंगे। यह वैक्सीन बुखार या सर्दी खांसी जैसे लक्षणों वाले मरीजों के साथ स्तनपान करवाने वाली महिलाओं व गर्भवती महिलाओं को नहीं लगाई जाएगी। स्वास्थ्य विभाग ने ये वैक्सीन देने के लिए पुख्ता इंतजाम किए हैं। अस्पताल के जिस क्षेत्र में इस अभियान को चलाया गया है उसे पूर्णतया सील किया गया है। वैक्सीन की डोज लेने वाले लोगों की पहले थर्मल स्कैनर से जांच की जा रही है और उसके बाद उनका वह पहचान पत्र देखा जा रहा है जो उन्होंने पंजीकरण के समय रजिस्ट्रर करवाया है। इसके बाद वैक्सीन की डोज लेने वाले व्यक्ति के पंजीकरण की पड़ताल हो रही है और उसके बाद ही वैक्सीन की डोज दी जा रही है। वहीं, डा. एसके वर्मा ने बताया कि वैक्सीन के लांच होते ही प्रथम दिन पचास लोगों को इस वैक्सीन की डोज दी गई है।