Friday, September 24, 2021 05:44 AM

हर रोल में हिट हैं विक्रम जरियाल

2001 में  प्रधान संघ के अध्यक्ष रहे, सन 2002 में भटियात भाजपा मंडल के महामंत्री रहे,1999 में आए थे पेंशन

स्टाफ रिपोर्टर- चुवाड़ी प्रदेश सरकार में नए मुख्य सचेतक विक्रम जरयाल जोश से लबरेज हैं। उन्होंने कहा है कि वह नई जिम्मेदारी को बखूबी निभाएंगे। वह प्रदेश सरकार की उम्मीदों पर खरा उतरने का प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि आने वाले उपचुनावों और फिर विधानसभा चुनावों में भाजपा की जीत तय है। मौजूदा प्रदेश और केंद्र सरकारें किसानों के हित में शानदार काम कर रही हैं। विक्रम जरियाल ने हमेशा हर मुश्किल से आसानी से पार पाया है। वह हर रोल में हिट रहे हैं। छात्र जीवन हो या फिर पैराकमांडो, प्रधान का कार्यकाल हो या फिर विधायक का, वह हर रोल में हिट रहे हैं। विक्रम सिंह जरयाल 14 मई 1961 में पिता बिश्न सिंह जरयाल और माता भाचरो देवी के घर जन्मे। दसवीं की पढ़ाई टुंडी स्कूल में और ग्रेजुएशन धर्मशाला कॉलेज से उत्तीर्ण करने के बाद आर्मी में 15 साल पैराकंमांडो की सेवाएं देने के बाद 1999 में पेंशन लौटे।

राजनीति की पहली पारी सन 2000 में टूडी पंचायत में प्रधान पद से जीत हासिल कर शुरू की। 2001 में  प्रधान संघ के अध्यक्ष रहे। सन 2002 में भटियात  भाजपा मंडल के महामंत्री पद पर बने रहे। सन् 2005 में जिला परिषद सदस्य टुंडी वार्ड से चुनाव लड़ कर आपने विरोधियों की जमानतें जब्त करवाई। 2007 में विधायक पद के लिए बतौर आजाद उम्मीदवार चुनाव लड़ा और हार गए।  सन् 2010 में एक दुर्घटना में टांग फैक्चर होने के बावजूद डॉक्टर द्वारा बताए गए बेड रेस्ट पर रहते हुए जिला परिषद सदस्य टुंडी वार्ड से चुनाव लड़ कर लगातार दूसरी बार जीत हासिल कर फिर विरोधियों की जमानत जब्त करवाई। सन् 2012 में  भाजपा  टिकट से चुनाव जीता। 2017 में दूसरी बार भाजपा  टिकट से जीत हासिल कर क्षेत्र के विधायक बने। बिक्रम सिंह जरयाल ने मुख्यमंत्री , जेपी नड्डा सहित शीर्ष नेतृत्व का आभार जताया है।