Tuesday, November 30, 2021 08:55 AM

निजीकरण के विरोध में गरजे मजदूर

सीटू के बैनर तले केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ किया धरना-प्रदर्शन, जिलाधीष कार्यालय तक निकाली रोष रैली

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू गुरुवार को सीटू जिला कमेटी कुल्लू द्वारा जिलाधीश कार्यालय कुल्लू के बाहर केंद्र सरकार की राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइप लाइन योजना के विरोध में धरना-प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन में सैकड़ों मजदूरों द्वारा भाग लिया गया। इससे पहले सीटू कार्यालय कुल्लू से जिलाधीश कार्यालय तक रोष रैली भी निकाली गई। प्रदर्शनकारियों को सीटू जिलाध्यक्ष सर चंद ठाकुर, जिला सचिव राजेश ठाकुर तथा जिला कोषाध्यक्ष भूप सिंह भंडारी ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने साजिशाना तरीके से राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइप लाइन योजना जो देश में लाई है, उससे सारे देश की सरकारी संपतियों को कौडिय़ों के भाव से निजी हाथों में बेचने का षड्यंत्र शुरू किया है।

इसके बहाने गरीब, मजदूर किसानों तथा मध्यमवर्ग का धन बड़े पूंजीपतियों तक पहुंचाने का खेल शुरू कर दिया है। इससे बड़े पैमाने पर लोगों की सरकारी सार्वजनिक क्षेत्रों की नौकरियां जाएंगी और बेरोजगारी में भारी इजाफा होगा, बेरोजगारी और महंगाई और ज्यादा बढ़ेगी तथा भ्रष्टाचार का बोलबाला होगा। सरकार परिवहन, रेलवे, हवाई सेवा, बैंक, बीमा, बिजली, पेट्रोलियम उत्पाद, बंदगाहों आदि सरकारी कंपनियों को अंबानी, अडानी जैसे पूंजीपतियों को चार साल के लिए छह लाख करोड़ रुपए में बेचने जा रही है, जो कि इन सरकारी संपतियों की मामूली कीमत के आधार पर बेचा जाएगा है। उसके बाद पूर्ण रूप से इन सरकारी कंपनियों को नीजि हाथों में हमेशा के लिए सौंपा जाएगा। सीटू पूरे देश में इस नीजिकरण की नीति का विरोध कर रही है। इस राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइप लाइन योजना के विरोध में पूरे देश में धरने-प्रदर्शन किए जा रहे हैं। अगर सरकार ने देश की संपति बेचने वाली इस योजना को बंद नहीं किया तो आने वाले समय आंदोलन को और तेज किया जाएगा।