Sunday, February 25, 2018 01:12 AM

भागवत का बयान शहीदों का अपमान

राहुल गांधी ने खोला मोर्चा, देश से माफी मांगें संघ प्रमुख

नई दिल्ली— कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत के सेना के बारे में दिए गए बयान को देश के हर नागरिक और शहीद सैनिकों का अपमान बताया है। श्री गांधी ने सोमवार को ट््वीट किया कि संघ प्रमुख का भाषण देश के हर नागरिक का अपमान है, क्योंकि इस बयान से उनका अपमान हुआ है, जिन्होंने देश के लिए जान दी है। यह हमारे तिरंगे का भी अपमान है, क्योंकि हमारी सेना का हर सैनिक इसको सैल्यूट करता है। श्री भागवत सेना और शहीदों का अपमान करने पर आपको शर्म आनी चाहिए। गौर हो कि संघ प्रमुख ने रविवार को बिहार के मुजफ्फरपुर में अपने भाषण में कहा था कि युद्ध के लिए तैयार होने में सेना को छह से सात माह का समय लगता है, लेकिन जरूरत पड़ने पर उनके स्वयंसेवक तीन दिन में लड़ाई के लिए तैयार हो जाएंगे। कांग्रेस पार्टी ने भी श्री भागवत के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। पार्टी ने नियमित ब्रीफिंग में कहा है कि श्री भागवन ने सेना की क्षमता पर सवाल उठाकर उसका अपमान किया है और इसके लिए संघ प्रमुख को देश से माफी मांगनी चाहिए। आनंद शर्मा ने कहा कि संघ प्रमुख ने जो कुछ कहा है, उससे ज्यादा सेना का अपमान नहीं हो सकता। देश का संविधान किसी संस्था को राष्ट्र की सुरक्षा के लिए सेना की तरह लड़ने का अधिकार नहीं देता, इसलिए किसी भी संगठन को इस तरह से राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर बयान देने का हक नहीं है। इससे पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने सरसंघचालक मोहन भागवत के बयानों पर राजनीतिक वबाल की कड़ी आलोचना करते हुए कहा था कि उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया जा रहा है।